माधवन ने ऐसा क्या बोला जो चेतन आग बबुला हुए?

“रहना है तेरे दिल में” फिल्म में पहली बार हिन्दी फिल्मी दर्शकों के सामने आए दर्शकों ने आकर्षक मुस्कान वाले इस चेहरे को सिर आंखों पर रखा माधवन हिंदी फिल्मों में अपनी ये एक सफल अभिनेता रहे हालांकि, दक्षिण भारतीय फिल्मों में उन्होंने अपनी सक्रियता बनाये रखी दिल विल प्यार व्यार जैसी फिल्मों के बाद माधवन ने रंग दे बसंती में छोटे मगर, बेहतरीन रोल से लोगो का मन अपनी ओर आकर्षित कर लिया आप माधवन को जान गए आइये थोड़ा चेतन भगत जी की लाइफ स्टाइल को जानते हैं.

आर.माधवन ने चेतन भगत पर निशाना साधा यह नेटफ्लिक्स इंडिया के साथ शुरू हुआ,जिसमें किताबों और फिल्मों के बीच लोगो को चयन करना था जिसमे माधवन ने उँगली उठाई तो भगत ने जवाब देते हुए कहा:"मेरी किताबें,और उन पर आधारित फिल्में। "इश पर माधवन जवाब दिया,"हॉय चेतन मेरा पूर्वाग्रह फिल्में,किताबें हैं।"जल्द ही माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट पर दोनों के बीच एक दिलचस्प वॉर शुरू हो गई। और उस पर टिप्पणी करते हुऐ भगत ने लिखा,"क्या आपने कभी किसी को यह कहते सुना है कि फिल्म किताब से बेहतर है? माधवन ने जवाब दिया,"हां! 3 इडियट्स", जो भगत की पहली बेस्ट-सेलर 'फाइव पॉइंट समवन' शीर्षक पर आधारित 2009 की ब्लॉकबस्टर फिल्म थी।भगत ने कहा, "ठीक है, मैं उस एक फिल्म से फरहान के रूप में जाने जाने के बजाय चेतन भगत के रूप में जाना जाना पसंद करता हूं।"माधवन ने कहा, "मैं सिर्फ फरहान के नाम से नहीं जाना जाता। मुझे 'तनु वेड्स मनु'से मनु,'अलैपायुथे' से कार्तिक और मेरी पसंदीदा मैडी से भी जाना जाता हूं।


 "इस तरह का मजाक रात तक चलता रहा, जब माधवन ने आखिरकार खुलासा किया एक्सचेंज "स्क्रिप्टेड" थे। दोनो ही इन दिनों  साथ नेटफ्लिक्स की सीरीज'डिक पल्ड'में नजर आ रहे हैं। जिसमे इनके साथ सुरवीन चावला भी है आर माधवन  एक भारतीय फिल्म अ उनकी एक छोटी बहन है- देविका रंगनाथन जोकि यूके में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं।  


अभिनेता,लेखक,निर्माता और टीवी एक्ट हैं। इनका जन्म 1 जून 1970 को जमशेदपुर में हुआ इनके पिता का रंगनाथन हैं-जोकि टाटा स्टील एक्सिक्यूटिव हैं। उनकी माता सरोजा है,जो बैंक ऑफ़ इंडिया में मैनेजर के पद पर हैंये हमेशा से ही पढ़ाई में बहुत रहे। उन्हें साल 1988 में अपने स्कूल को बतौर कल्चरल एम्बैसडर के तौर पर कनाडा में रिप्रेजेंट करने का अवसर दिया गया। इतना ही नहीं वह अपने कॉलेज के दिनों के दौरान काफी अच्छे कैडेट भी रहे हैं, उन्हें महाराष्ट्र बेस्ट कैडेट से नवाजा गया माधवन कभी भी एक अभिनेता बनने की ख्वाइश नहीं रखते थे, वह एक आर्मी ऑफिसर बनना चाहते थे, वह एक बेस्ट कैडेट भी रह चुके हैं लेकिन जब आर्मी ज्वाइन करने का मौका आया तो उनकी उम्र छ महीने काम निकली उसके बाद उन्होंने अपना रुख पब्लिक स्पीकिंग की और कर दिया।  

 
1999 में इनकी शादी उनकी  सरिता बिर्जे से हुई जो इनकी प्रेमिका थी। उनका एक बेटा भी है जिसका नाम-वेदांत है
1997 अपने करियर की शुरुआत चन्दन के टीवी कमर्शियल ऐड से की  बाद मे निर्देशक मणि रत्नम ने उन्हें अपनी एक फिल्म का ऑफर देकर स्क्रीन टेस्ट देने को कहा पर लेकिन डायरेक्टर ने उन्हें कह कर निकाल दिया कि वो इस रोल के लिए फिट नही  है फिर माधवन ने छोटे पर्दे का सहारा लिया कई टेली शोज़ में काम किया। लोगों को उनका काम बेहद पसंद आया और 1998 में माधवन एक इंग्लिश फिल्म इन्फर्नो में इंडियन पुलिस ऑफिसर की भूमिका निभाई.


मस्त-मौला अभिनेता आर. माधव को 22 साल की उम्र में माधवन को एनसीसी की तरफ से बेस्ट कैडेट का अवार्ड मिला इसके बाद उन्हें रॉयल आर्मी से ट्रेनिंग लेने का मौका भी मिला था लेकिन उम्र अधिक होने के कारण नही कर सके हिंदी फिल्मों में वो समय-समय पर अपनी उपस्थिति देते रहे अभिनय की दुनिया में इन्होंने अपना कदम छोटे पर्दे से किया बदलते रिश्ते और सी हॉक्स जैसे धारावाहिकों में केंद्रीय भूमिका निभाकर सुर्खियों में आए ये बेहद कम वक्त में छोटे पर्दे के लोकप्रिय अभिनेता बनेअपने प्रशंसकों की प्रेरणा से धीरे-धीरे इन्होंनेने फिल्मों की ओर रूख करना शुरू किया सबसे पहले उन्होंने दक्षिण भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में अपनी किस्मत आजमायी अपने आकर्षण और अभिनय प्रतिभा के बल पर वहां उन्होंने अपनी अच्छी पहचान बनाई दक्षिण भारतीय फिल्मों में अपनी जमीन तलाशने के बाद इन्होंने ने हिंदी फिल्मों में प्रवेश किया.


“रहना है तेरे दिल में” फिल्म में पहली बार हिन्दी फिल्मी दर्शकों के सामने आए दर्शकों ने आकर्षक मुस्कान वाले इस चेहरे को सिर आंखों पर रखा माधवन हिंदी फिल्मों में अपनी ये एक सफल अभिनेता रहे हालांकि, दक्षिण भारतीय फिल्मों में उन्होंने अपनी सक्रियता बनाये रखीदिल विल प्यार व्यार जैसी फिल्मों के बाद माधवन ने रंग दे बसंती में छोटे मगर, बेहतरीन रोल से लोगो का मन अपनी ओर आकर्षित कर लिया आप माधवन को जान गए आइये थोड़ा चेतन भगत जी की लाइफ स्टाइल को जानते हैं.


चेतन भगत ने नेटफ्लिक्स का एक ट्वीट शेयर किया, जिसके साथ लिखा, 'मेरी किताबें और उन पर बनी फिल्में शानदार हैं इस ट्वीट को पढ़ते ही माधव ख़ुद खुद को रोक नही सके पाए और उसका उत्तर उन्होंने तुरंत दिया की मुझे किताबे पसंद है
नेटफ्लिक्स इंडिया के साथ शुरू हुआ,ये खेल जिसमें किताबों और फिल्मों के बीच अंतर देखने को कहा गया इसपर भगत ने जवाब दिया कि "मेरी किताबें, और उन पर आधारित फ़िल्म" इस पर माधव ने जवाब दिया,"हॉय चेतन मेरा पूर्वाग्रह फिल्में, किताबें हैं जल्द ही माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट पर दोनों के बीच एक दिलचस्प वॉर शुरू हुई माधवन के टिप्पणी पर भगत ने लिखा,"क्या आपने कभी किसी को यह कहते सुना है कि फिल्म किताब से बेहतर है?


 माधवन ने जवाब दिया,बिल्कुल 3 इडियट्स",जो भगत की पहली बेस्ट-सेलर 'फाइव पॉइंट समवन' शीर्षक पर आधारित 2009 की ब्लॉकबस्टर फ़िल्म थी
 और इन्ही बातो को लेकर दोनों मीडिया मे छाए हुए सुर्खियो की चमक बने है दोनों के बीच ट्विटर पर जबरदस्त जंग चल रही रही है नेटफ्लिक्स पर दोनों का एक शो भी रिलीज हुआ है जिसका नाम है 'Decoupled' हैं जिसमे माधवन इस शो में भारत के दूसरे बेस्ट सेलिंग
ऑथर का रोल प्ले कर रहे 

 
आर माधवन के जवाब पर चेतन भगत ने लिखा कि क्या आपने किसी को यह कहते सुना है कि किताबें, फिल्म से ज्यादा बेहतर हैं? माधवन ने लिखा, "हां, 3 इडियट्स इसके साथ ही माधवन ने कई इमोजी बनाई फिर चेतन भगत ने लिखा,"तुम मेरे सामने 3 इडियट्स को फ्लॉन्ट कर रहे हो? मुझे मत सिखाओ, शायद तुम्हें जाना चाहिए और मेरी किताबें पढ़नी चाहिए.


माधवन ने रिप्लाई करते हुए लिखा,"अगर आपको किताबें इतनी पसंद हैं तो आप मेरे शो में क्यों हैं? नेटफ्लिक्स पर डीकपल्ड शो  आ गया हैं तो भगत खुद को रोक नहीं पाए औऱ उन्होंने लिखा, "हा हा हा, वाह क्या बात है शायद में ही हूं जो एक पान मसाला ब्रैंडेड शो के ऊपर पुलितजर प्राइज लेने जाना प्रिफर करेगा इसपर माधवन लिखते हैं कि मैं बेस्टसेलर की जगह 300 करोड़ क्लब प्रिफर करूंगा
चेतन भगत ने एक बार फिर वार करते हुए कहा कि मुझे लोग मेरे ही नाम से जानते हैं, न कि उस एक फिल्म के फरहान के नाम से इसपर माधवन ने जो रिप्लाई किया, उसने सभी का दिल जीत लिया.


माधवन ने लिखा, "मैं केवल फरहान के नाम से ही नहीं जाना जाता हूंमुझे लोग तनु वेड्स मनु से मनु के नाम से भी जानते हैं, Alaipayuthey के कार्तिक के नाम से जानते हैं, और मेरे फेवरेट, मैडी, क्योंकि मैं रहता हूं सबके दिल में" आखिर में चेतन भगत लिखते हैं कि वाओ, अगर यह तुम्हारा एक राइटिंग टेस्ट था तो तुम इसमें पास हुए हो लेकिन सच बताओ, तुम मेरे नेटफ्लिक्स डेब्यू के बारे में क्या सोचते हो? माधवन ने लिखा कि मैं बड़े पर्दे पर ही ठीक हूं, आपकी किताबों की तरहऔर शो में मैं काफी शानदार नजर आ रहा हूं
3 इडियट्स को रिलीज हुए काफी समय बीत चुका है लेकिन वो आज भी सभी के दिलो दिमाग मे जिंदा है और तहलका मचाय है इस फिल्म को आप बार-बार देखना चाहेंगे.


राजकुमार हिरानी के शानदार निर्देशन और आमिर खान, शरमन जोशी और आर. माधवन की मजेदार एक्टिंग ने लोगो को जीना सिखा दिया इस फिल्म ने एक अलग ही माइलस्टोन बनाया
लेखक चेतन भगत अभिनेता आर माधवन के साथ इस ट्विटर नोक झोंक को देख कर ये साफ समझ आ रहा कि ये उनके हाल ही में रिलीज हुए नेटफ्लिक्स शो, डिकॉउल्ड के लिए एक नाटक है जो पब्लिसिटी के लिए सुर्खियों में है सीरीज में, माधवन, जो भारत में दूसरे सबसे ज्यादा बिकने वाले लेखक की भूमिका निभाते हैं, लगातार चेतन के साथ कॉम्पीटीशन कर रहे हैं, जो खुद रोल करते है
उनकी इस तरह के रोल करने पर माधव सिर्फ  मजे ले रहे!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *