ओमाइक्रोन से दुनिया क्यों दहशत में है? अल्फा, बीटा के बाद गामा की बारी...

ओमिक्रोन एक ऐसा नाम जिसे दुनिया को खौफ जदा कर दिया ये जितनी तेजी से लोगो को संक्रामित कर रहा है ऐसा लगता है की भारत में तीसरा लॉकडाउन बहुत जल्दी लग जाएगा।

कोरोना नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने तो तबाही मचा दी इसका खौफ अब फैलता ही जा रहा इसके संक्रमण की गति काफी ज्यादा बढती जा रही दक्षिण अफ्रीका से लगातार कई देशों में बहुत तेज गति से फैल रहे कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने लोगो का दिल दहला दिया हैं ओमिक्रॉन से अमेरिका में जहा पहली मौत हुई है तो वहीं ब्रिटेन में इस वेरिएंट ने 12 की जान ली इसी वजह से अब क्रिसमस और न्यू ईयर को लेकर वहा की सरकारों के लिए  ये चिंता का विषय है इसी चिंता से नीदरलैंड ने पहले ही 14 जनवरी तक अपने देश में लॉकडाउन लगा दिया है यहां स्कूल, कॉलेज, म्यूज़ियम,पब, डिस्कोथेक और रेस्टोरेंट्स पूरी तरह बंद हो गए है वहीं,अमेरिका और ब्रिटेन की सरकारें भी अब क्रिसमस और नए साल पर भीड़ को देखते हुए आंशिक लॉकडाउन लगाने की सोच रही है!


विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO द्वारा मिली यह ख़बर कि अब 89 देशों में कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन पूरी तफह फैल चुका है WHO के अनुसार ये डेढ़ से 3 दिनों मे दोगुनी रफ्तार से बढ़ता है नीदरलैंड्स में अब तक 85% लोगों को वैसीन लग इसके अलावा 9 फीसदी लोगों को बूस्टर डोज़ मिली है एम्सटर्डम के अनुसार यह दुनियाभर में तेजी से बढ़ता खतरा हैं जो लगातार बढ़ता जा रहा है। लगभग 70 से अधिक देशों में ओमिक्रॉन के केस हैं। भारत में भी ओमिक्रॉन बढ़ रहा हैं। यूरोप के देशों में भी ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, कई देशों मे इस वैरिएंट के खतरे को देखते हुए सख्त कदम उठाया जा रहा हैं। कही ऐसा न जो कि क्रिसमस के मौके पर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो औऱ लोगो को यह संक्रमित न कर दे इसलिए लोगो को इस महामारी से रोकने के लिए नीदरलैंड सरकार ने देशभर में लॉकडाउन लगाने का फैसला कर लिया है। इससे लोगो को यह त्योहार आपने घरों में ही मनाना होगा!


वायरस से बढ़ते खतरे को देखते हुए क्रिसमस से पहले पूरे देश मे लॉकडाउन का ऐलान किया गया है औऱ शक्तदिशा निर्देश भी दिए गए हैं सभी सार्वजनिक स्थान दुकानों को बंद करने के आदेश सुनाया गया है लॉकडाउन लगभग 20 जनवरी तक लगा रहेगा यूरोप के कई देशों में ओमिक्रॉन के चलते पाबंदियां लगाने का ऐलान हैं सभी को सावधानिया बरतनी पड़ेगी औऱ दिये गए नियमो का पालन करना होगा!


वायरस के नए स्ट्रेन की वजह से लंदन में में फिर से लॉकडाउन लगा है यहाँ एक करोड़ 60 लाख लोग आपने अपने घरों में कैद है सभी बीमारी से बचाव चाहते है तभी मजबूर हैंलंदन में क्रिसमस सेलिब्रेशन को भी रद्द कर दिया इस वायरस ने ब्रिटेन में अपना कहर बरसाना शुरू कर दिया है साउथ इंग्लैंड और लंदन इस स्ट्रेन से सबसे प्रभावित वहाँ के हालात को देखते हुए कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइटों पर रोक लगा दिया है ताकी बीमारी का आवागमन न हो पाए और अन्य शहर सुरक्षित रह सकें!


अब क्रिसमस और नए साल के जश्न पर भी ओमिक्रॉन का खतरा मंडरा रहा है। कई देशों ने लॉकडाउन लगा दिया है। तो कई देश अलग-अलग तरह के प्रतिबंध लगा रहे हैं। सभी बीमारी से बचाव के रास्ते खोज रहे हैं जिससे लोगो की जान बच सके!
नीदरलैंड के कार्यकारी प्रधानमंत्री मार्क रट ने नीदरलैंड में लॉकडाउन का ऐलान करते हुए कहा कि स्कूल, विश्वविद्यालय और सभी गैर जरूरी स्टोर, बार, रेस्टोरेंट 14 जनवरी तक बंद रहेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि रविवार से देश में एक बार फिर से लॉकडाउन लगने जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसको टाला नहीं जा सकता है क्योंकि ओमिक्रॉन से पांचवी लहर के चलते लॉकडाउन लगाना अनिवार्य हो गया है। यह भयानक बीमारी हैं!


आवश्यक बात यह है कि फ्रांस, साइप्रस और ऑस्ट्रिया की सरकार ने भी अन्य जगहों से होंने वाली यात्राओ पर हर तरह से पाबंदी लगा दी है। यहां तक कि पेरिस ने नए साल पर फायरवर्क्स के कार्यक्रम को भी खारिज कर दिया है। डेनमार्क ने सभी थिएटर,कॉन्सर्ट हॉल,अम्युजमेंट पार्क,म्यूजियम मे ताले लगा दिया आयरलैंड में पब, बार में सिर्फ रात 8 बजे तक खुलने की ही इजाजत दी है,साथ ही इन खुले और बंद जगहों पर सीमित लोगों को कार्यक्रम में शामिल होने की अनुमति दी गई है!


लाखों लोग 26 दिसम्बर को सख्त लॉकडाउन पाबंदियों के दायरे में आ गए है। कोरोना वायरस के अधिक संक्रामक वाले स्वरूप को फैलने से रोकने के लिए नयी योजना बनाई गई की है। पूर्व और दक्षिण पूर्व ब्रिटेन में करीब 60 लाख लोग टीयर-4 लॉकडाउन के दायरे में आ गए हैं जो ब्रिटेन में बिमारी पर काबू पाने के लिए सबसे सही है इसके साथ लोगों को घरों में रहने का आदेश भी दिया जाता है और सावधानी बरतने को कहा गया है उचित दूरी और ऑनलाइन पे करने को कहा गया है यात्राये भी रोकी जा चुकी है क्रिस्टमस और नए साल के सभी प्रकार के प्रोग्राम पर भी रोक लगा दी गई है जिससे ज्यादा भीड़ इकट्ठी न हो सके न ही कोई संक्रामित हो पाए सरकार ने हर तरफ वायरस का विस्तार बताते हुए सावधानी बरतने की सारी विधिया पूरी तरह सोशल मीडिया के माध्यम से पहुच दी है साथ ही 20 जनवरी तक हर चीजो पर पाबन्दी लगते हुए लकडॉउन का उद्देश्य भी देदिया है!
One thought on “ओमाइक्रोन से दुनिया क्यों दहशत में है? अल्फा, बीटा के बाद गामा की बारी…”

Leave a Reply

Your email address will not be published.